Saturday, September 6, 2008

मत भूलो

दर्द में मुस्कुराना मत भूलो,
अपना गुज़रा ज़माना मत भूलो।

बना सको तो बना लो रिश्ते नए,
दोस्त कोई पुराना मत भूलो।

कर दो नाराज गर किसी को कभी,
फ़िर तुम उसको मनाना मत भूलो।

घूमते फिरते रहो तुम बाहर,
खाना पर घर का खाना मत भूलो।

भूल जाओ पुरानी बातों को,
दिल से दिल का लगाना मत भूलो।

प्यार से बच्चे सच कह देते हैं,
बनाते थे तुम भी बहाना मत भूलो।

तुम उठा चुके हो गम बिछड़ने का,
बिछडों को तुम मिलाना मत भूलो।

गोपाल के.

5 comments:

Amma said...

कर दो नाराज गर किसी को कभी,
फ़िर तुम उसको मनाना मत भूलो।
yah sach kaha tumne,yadi apni wajah se koi naaraaz hota hai to manana hamara kaam hai..........

घूमते फिरते रहो तुम बाहर,
खाना पर घर का खाना मत भूलो।
ghar ka apna ek wajood hota hai,use barkaraar rakhna hamara kartavya hai

भूल जाओ पुरानी बातों को,
दिल से दिल का लगाना मत भूलो।
par yah itna aasaan nahin hota bhai,kyonki koi rishta ek tarfa ya yun kahen koi soch iktarfa nahin
bhulne ke liye dono ka prayaas ho aur samay se ho
bahut badhiyaa........

Yogesh said...

poem is good as always...
But ye kya, tumne apne page par song laga diya..
I don't like it because it disturbs me when i read ur poem..

More over koi banda office mein kholega site to bhi gana baj uthega...thats bad...Remove it...

Poem ki tareef to karni banti hai..
TOO GOOD....

shipra said...

this is very sensitive and heart touching poetry.

niharika said...

hiiiiii very nice poem...
such mein dil ko chuti hai..

archana said...

बना सको तो बना लो रिश्ते नए,
दोस्त कोई पुराना मत भूलो।

कर दो नाराज गर किसी को कभी,
फ़िर तुम उसको मनाना मत भूलो।

bahut hi achcha laga perker....
man mein sunder bhavo ko jagati hai aise rachnaaye .....safer zari rakhiye

YE MAI HU-- GOPAL

LOVE MATCH


Hi5 Cursors